डायरी

एक चोर दांतों वाली लड़की की याद

And if I could
I’d throw away this world
I’d dress you all in pearls
I’d give you what you wanted

You’re all I notice
In a crowded room
Your vacant motives
Unmoved, revealed

Medellia of my eyes
You’re the emptiness of I
You’re the reason that I drive
And if you say you will
I would love you still

And if I just could
Be anything for you
Just anyone at all
Anything that mattered, washed out

POSTED BY COREY AT 11:37 AM

मैं कल रात से एक तन्हा आदमी की डायरी को पढ़ रहा था। मैंने कुछ कवितायें और कुछ अर्ज़ियाँ कई कई बार पढ़ी। इस आदमी के बारे में जुलाई 2001 से फरवरी 2003 के बीच का अक्स दिखाई देता है। हम कहाँ से आते हैं और कहाँ खो जाते हैं। हम किन शब्दों से बनते हैं और किन शब्दों के साथ खत्म हो जाते हैं। मुझे नहीं मालूम कि आप कभी दूसरों की खुली ज़िंदगी में झांकना पसंद करते हैं या नहीं। इसलिए भी कि तनहाई जितनी खौफ़नाक है उतनी ही हमदर्द भी हुआ करती है।
इस ब्लॉग का लिंक मैंने रात को अपने फेसबुक पेज़ शेयर किया था। इसलिए कि शायद रात के वक़्त आप जागे हुये हैं और रोने के लिए महबूब के घुटने तलाश रहे हैं। या शायद आपकी जो हवस है उसी से डर कर आपने एक भले मानुष के पर्दे की ओट ले रखी है। आपकी खिड़की से बरसात के गिरने की आवाज़ आ रही है मगर शायद आप डर रहे हों कि पानी के साथ आपका रंग उतर न जाए और प्रेम जिसे नाम दिया है उस वहशत देख कर दुनिया से भाग जाने का सिरफिरा खयाल न घेर ले।
* * *
हवा की सरगोशी की शक्ल में वक़्त का एक लम्हा मेरे कान के पास से गुज़रा। पैमाने में बस ज़रा सी वोदका और ज़रा सा पानी बचा हुआ था। मैंने उसे छत के बीच उछाल दिया। बरसात से पहले, हवा शायद इसे उड़ा ले जाएगी। साथ ही एक चोर दांतों वाली लड़की को याद करके मुसकुराना भी…
फिलहाल ऊपर देखो तो कुछ बरसे हुये बादल हैं जैसे रात की सलवटों से भरा लिहाफ़ आसमान में टंगा है।
* * *

पश्चिम से आती हवा से मुंह फेरते हुये उसने सुना।
क्या पत्थरों, ताबीजों और किताबों से ही मुकम्मल हो जाता है कोई? उस घड़ी, जब एक बार उसने बावजह छू जाने दिया था। उससे बड़ा सुकून का सबक कोई क्यों न रहा ज़िंदगी में। तुम्हें मालूम है खत्म कुछ नहीं होता। हम किसी फरवरी महीने की एक गुनगुनी नज़र को गरम दिनों की धूप में भी ज़िंदा कर सकते हैं। जैसे किसी ने हाथ आगे बढ़ा कर खींच लिया हो।
तुम कहाँ पड़े होते अगर उसने गले न लगाया होता। कि गले लगाने के लिए सचमुच का बाहों में भर लेना ज़रूरी नहीं होता। कई छोटे छोटे संदेशे ये काम बखूबी कर लेते हैं। जब आप पाएँ कि आप लगातार उसी तरफ देख रहे हैं, उसी को सोच रहे हैं और उसी से कोई ख़्वाहिश भी नहीं है तब आप उसके सच्चे प्रेम में होते हैं।
ये सब कौन किससे कह रहा था। हवा अब भी पश्चिम से ही आ रही है मगर दिखता कोई नहीं।
Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s