बातें बेवजह

सब कुछ उसी के लिए

धरती और स्वर्ग के बीच की जगह में उड़ते हुये गोता लगा कर चिड़िया, बादल से बरसी बूंद को चोंच में भर लेती है। उसी तरह प्रेम, महबूब को बसा लेता है अपने दिल में, और बचा लेता है नष्ट होने से।

आह ! कितनी उम्मीदें हैं, एक तुम्हारे नाम से।
* * *

उसकी डायरी में थी
एक मुंह छिपाये हुये निर्वस्त्र नवयौवना
चिड़ियाएं नीले सलेटी रंग की और कुछ शब्द।

मेरी डायरी में भरी थी, कच्ची शराब।
* * *

मेरा दिल बना है किसी के लिए
मेरे होने के मक़सद है कुछ और
शुक्रिया ओ मुहब्बत
तुम्हारे दिये इस हाल का।

कुछ सज़ाएँ होती है उम्र क़ैद से भी लंबी।
* * *

उसके होठों पर बचे थे
थोड़े से सितारे, थोड़ा रंग गुलाबी।

मेरे पास बची है उसकी यही छवि।
* * *

ज़मीन, पानी, हवा और रोशनी
है उनके लिए जो जन्मते और मर जाते हैं।

प्रेम के बीज को इनमें से कुछ नहीं चाहिए।
* * *

लज्जा भरे गुदगुदे गालों पर ज़रा सी हंसी
और होठों ने दबा रखी है, बातें सब रात की।

सुबह आई है, हैरत के आईने से उतर कर।
* * *

कोयल भूल गई है लंबा गाना
कूकती है जैसे पुकार रही हो तुम्हारा नाम

हर सुबह, जो सुबह है तुम्हारे बगैर।
* * *

झाड़ियों के झुरमुट में सोये परिंदो को जगा कर
सुबह उठी आसमान में कुछ और ऊंची।

प्रेम में जीए जाना, सबसे बड़ी बात होती है।
* * *

सफ़ेद कबूतर आसमान का फेरा देकर
आ बैठा अपने ही मचान पर।

कोई रात भर सोकर जागा उसी की याद में।
* * *

लाल पंखों से झाड़कर आलस्य
नृत्य मुद्रा में उड़ गया परिंदा।

तप में बैठे किसी सन्यस्त टिड्डे ने
अपना एंटीना किया सुबह की ओर।

मेरी हथेलियों की रेखाओं से उगा
एक नया दिन, तुम्हारे नाम का।
* * *

उधड़ी हुए चुप्पी जितने खिले
फूल का फेरा दे, चला गया श्याम।

प्रिय सखी से रात वादा था
जाने किस गंध, मकरंद का।
* * *

आज की सुबह देखा मैंने
हैरत के बोझ से झुक गयी थी
लज्जा भरे फूलों की उनींदी शाख
अधजगे बागीचे पर बिखरी हुई थीं
बेढब लताएँ, तुम्हारे बालों की तरह।

आज कि शाम पाया मैंने
आसमान में दूज के मुबारक चाँद को
तुम्हारी कमर की तरह बल खाये हुये।

तुम्हारे बिना अपने कमरे में तन्हा
जब कभी जागूँ हूँ दोपहर की नींद के बाद
होता है सुबह होने का गुमा
जैसे कोई लौट आया बिना बताए।

अब
आहिस्ता से उतर रही है, याद की गहरी स्याही
झुक कर छत की मुंडेर पर
देखना कुछ ऐसे कि नीचे गली में खड़े हो तुम।

कि याद को लिखना,
सिर्फ उदासी लिखना नहीं होता, हर बार।
* * *

अज़ानों से बेपरवाह
ओंकार नाद से बहुत दूर
चलता हुआ मुसाफ़िर ज़िन्दगी का।

सुख, जैसे छांव की तलछट
सूरत, किसी बेढब आईने का बयान
और एक कुफ़्र जैसे मुहब्बत का खयाल।

और कभी कभी कोई देता है थपकी
जैसे हवा ने पहने हों हाथों में पंख।

याद आता है, बिछड़ने के वक़्त
तुम्हारी आँखों के
ठहरे हुए पानी पर लिखा था खुशी।

जाने क्यों है यकीं तुम्हें इस बात का
कि ज़िंदगी फिर से मिला देगी हमें।

मैं ठिठक कर देखता हूँ
आसमान पर बादलों की लहरें उकेरता
रेगिस्तान की नकल बनाता है ख़ुदा।
* * *

घूम फिर कर वहीँ आकर बैठ जाता है
प्यास का मारा हुआ हिरन
हरी झाड़ियों के पार देखता है, अकूत रेगिस्तान।

ज़िंदगी एक सूरज है
सर पर चमकता हुआ
मौत की पगडंडी पर वक़्त का अदीठ फासला है।

प्यास का खाली पैमाना है, प्रेम की दस्तक।
* * *

और देखो ऐसे छू रहा है कौन मुझे
कि आलाप में ये किसकी खुशबू है।

जबकि, तुम दुनिया की आखिरी ख़्वाहिश हो।
* * *

तुम नहीं हो
स्वर्ण-मृग के छलावे में
जटायु की मर्मांतक पुकार में।

तुम यहीं हो
दिल के कोने में गुलाब के कांटे से।
* * *

ऐ दिन ! अब उठता हूँ
इस दिल में सुबह का जाम भर कर

तुम भी तपो, मेरी तक़दीर की तरह
मैं भी बरदाश्त करूँ जो लिखा है मुकद्दर में।
* * *
Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s