गफूर खां मांगणियार, लोकगीत

ऐ दोस्त तेरे लिए !

इस संदूक में जाने कितने ख़ुशी और अफ़सोस के मीठे नमकीन अहसास, विरह के आंसू और मिलन के उदात्त क्षणों की रंगीन झालरों के टुकड़े रखे हैं. मखाणे, बताशे और खटमिठियों के स्वाद के बीच सोने की चूड़ियाँ, गुलाबी पन्नों पर लिखे हुए सुनार के हिसाब, लाल रंग के गहने रखने के बक्से, पिताजी की कुछ डायरियां, बीकानेर के सरदार स्टूडियो में खिंची हुई मेरी माँ की श्वेत श्याम तस्वीर रखी है. और इस बड़े संदूक के अन्दर कीमती सामान रखने का एक छोटा संदूक भी है.

उम्रदराज़ अगड़म बगड़म के बीच रखे हुए इस छोटे से सदूक को माँ संदूकड़ी कहती है. इस पर किसी सिने तारिका की रंगीन तस्वीर छपी है. सुहाग की साड़ी में माथे पर लाल रंग की बिंदिया सजाये हुए नायिका, रेगिस्तान की दुल्हन से मिलती जुलती दिखती है. माँ जब भी बड़ा संदूक खोलती, एक खुशबू पूरे घर में बिखरने लगती. मैं दौड़ा हुआ उस तक पहुँच जाता. मेरा मन जिज्ञासा और मिठास की लालसा से भरा संदूक के आस पास अटका रहता. जब मखाणे खाने का मजा चला गया तो पहली बार देखा कि उस छोटे से सुन्दर संदूक की तस्वीर के पास से कुछ रंग उतर गया है.

मैंने पूछा. माँ इसको ये क्या हुआ ? माँ उस संदूक पर हाथ फेरते हुए शायद कुछ साल पीछे लौट गयी थी. मेरे ताउजी का सुन्दर पीला ऊंट और उस पर कसा हुआ पिलाण (काठी) माँ को विगत के हिचकोलों में खींच ले गया होगा. माँ को शहर तक पहुँचाने के लिए ताउजी ऊंट के साथ पैदल थे और माँ ऊंट पर मुझे लेकर बैठी थी. पिलाण के अगले सिरे पर लगी पीतल की सुन्दर खूंटी पर माँ ने अपनी कपड़े की थैली को टांगा हुआ था. उस थैली में यही सुन्दर सा नन्हा संदूक भी था. ऊंट की चाल के साथ पिलाण की खूंटी से रगड़ खाता गया और बाड़मेर आते आते उस पर गहरे निशान हो गए.

बरस बीतते गए और माँ अपना सुख दुःख समेट कर इसी डिब्बे के आस पास जमा करती गयी. उम्र की खरीदारी में क्या पाया और खोया इसका हिसाब नहीं होता. कितनी सुन्दर आरसियाँ आई. उनमें अपने चहरे देखे, खुश हुए और वे धुंधली होकर टूट कर बिखर गयी. माँ की सोने की चूड़ियाँ हर दो चार सालों में बदलती रही. कमर का कंदोरा उपेक्षित होकर सुनार के यहाँ टूट गया. पाँव की चांदी की कड़ियाँ एक दिन शहर के फैशन ने उतरवा दी आखिर हाथी दांत के चूड़े की जगह भी लाल रंग के मूठिये ने ले ली. कानों में पहने जाने वाली गोल टोटियों की जगह सोने के टॉप्स आ गए. गले की हंसुली की जगह सोने की चेन आ गयी. माँ के अधिकतर जेवर समय के साथ बदलते गए मगर यह छोटी संदूकची नहीं बदली.

मेरे नाना के पास भी ऊँटों का टोला था. माँ उनकी गर्दन से लटक कर उन पर चढ़ जाने में माहिर थी. कभी वैसे ही मामा मुझे लटका देते तो मैं रोने लगता. वे हँसते, नेनू ये लड़का कहां से लाई है ? ऊंट रोजाना पानी पीने जालिपा या उतरालाई नाडी तक जाया करते थे. मैं सिर्फ़ ऊंट की पीठ पर सीधा बैठने में ही खुश रहता था. ऊंट की पीठ से भेड़ें और छोटी दिखाई देती थी. समय के साथ आये बदलावों ने ऊंट को मनुष्य से दूर कर दिया. नाना ने सारे ऊंट बेच दिए. ताऊजी ने भी पीले ऊंट को बेच दिया. अब उसकी याद इस छोटे संदूक पर शेष है.

समय की अदृश्य नदी अपने साथ हमारे प्रियजनों को बहा ले गयी है. मेरे नाना, दादा, ताऊ, पिता, सब मामा और भी जाने कितने हँसते बोलते हुए चहरे अनंत में खो गए हैं. माँ चीज़ों से बातें करती हैं. उनके सुख दुःख पूछती है. छोटे भाई छुट्टी बिता कर वापस नौकरी पर जा रहे होते हैं तब घर के किसी कोने में आंसू सुखाती हुई कुछ बोलती है. जिसे सिर्फ़ ये पैंतालीस साल पुरानी दो हथेली पर रखने जितनी बड़ी संदूकची ही समझ सकती है. ये माँ की सच्ची मित्र है. मैंने माँ से कहा अपना संदूक दिखाओ ना… आज मित्रता दिवस है.

* * *

दोस्त आज तुम्हें लोकगीत करिया सुनवाता हूँ. करिया का अर्थ है नौजवान ऊंट. रेगिस्तान वासियों के सुख दुख के इस सच्चे साथी पर अनगिनत गीत रचे गए हैं. यहाँ के लगभग हर लोकगीत में इसका ज़िक्र आ ही जाता है. मुझे इस उदासीन दार्शनिक पर बहुत प्यार आता है कि ऊंट न होता तो रेगिस्तान की अनेक प्रेम कहानियां अधूरी रह जाती. इस गीत को हालाँकि मैंने ही रिकार्ड किया है मगर आदतन गफूर ने उत्साह में कुछ बंद अपनी मर्ज़ी से जोड़े घटाए हैं. यूं भी गफूर खाँ मांगणियार और उनके साथियों की गायिकी का मैं दीवाना हूँ इसलिए सब गलत सलत भूल जाता हूँ. गीत का आगाज़ एक दोहे से है जिसमें प्रेयसी कह रही है “ओ पिया तुम से तो ये जानवर भी अच्छे हैं जो दिन भर वन में चरते हैं और सांझ घिरने पर दिन के अस्त होने के समय तो घर की आस करते हैं”.

ढोला थां सूँ ढोर भला, चरे वन रो घास
साँझ पड्या दिन आथमें करें घरों री आस.

सांवलें रे गैरो, म्हारे अन्नदाता रो करियो,
करिए रे घूघर माळ
तड़के झकावों हाँ जी करियो रे, फड़के मंडावां पिलाण
सरवर सोने रा हाँ जी पगड़ा रे, मोतिड़े जड्योड़ी मुहार
करियो बंधायो हाँ जी कोटड़ी रे, घोड्लो गढ़ री भींत
करिए रे घूघर माळ.

गीत का भाव ये है कि मेरे पिया जी का सांवले रंग का सुन्दर नौजवान ऊंट है और घुंघरुओं की मालाओं से सजा हुआ है. भोर भये इसे झोक में बिठाएं और जल्दी से पीठ पर रख दें पिलाण (होदा). इसके सोने जैसे सुन्दर पाँव है और मोहरी (लगाम) में मोती जड़े हुए हैं, ओ नौजवान ऊंट तुझे बिठाएं मेहमानखाने के पास और घोड़े को बांधें गढ़ की दीवार के पास. इस सुन्दर गीत में नायिका ऊंट की प्रसंशा कर रही है और प्यार जता रही है ताकि वो इसके पिया जी को तुरंत घर ले आये.

तुम देखना एक दिन मेरे पास भी सुन्दर नौजवान ऊंट होगा और मैं उस पर चढ़ कर महबूब के घर चला जाऊँगा.

http://www.divshare.com/flash/playlist?myId=15469247-88a

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s