फैंव्किस बर्नियर, स्त्री विमर्श

स्त्री तुम सदा सुहागन रहो, अभी हमारे पास दूसरे काम हैं…


फैंव्किस बर्नियर विदेशी क्रिस्तान था और उसने शाहजहाँ के समय भारत में रहते हुए मुगलों की नौकरी की थी. उसने दुनिया भर में लम्बी यात्रायें की और सामाजिक जीवन को दर्ज किया. विकासशील किन्तु रुढियों से जकड़े हुए इस देश के लोगों को और खुद को देखता हूँ तो लगता है कि पांच सौ साल में भी अगर हम लिंग भेद और सामाजिक बराबरी का सफ़र तय नहीं कर पाए हैं तो आगे भी क्या उम्मीद हो ?

बर्नियर ने अपनी भारत यात्रा में लिखा था कि मैंने देखा एक बहुत बड़ा गड्ढा खोदा हुआ था और उसमे बहुत सी लकड़ियाँ चुनी हुई रखी थी. लकड़ियों के ऊपर एक मृत देह पड़ी है जिसके पास एक सुंदरी उसी लकड़ियों के ढेर पर बैठी हुई है चारों और से पांच ब्राहमण उस चिता में आग दे रहे है थे. पांच अधेड़ स्त्रियाँ जो अच्छे वस्त्र पहने थी एक दूसरे का हाथ पकड़ कर चिता के चारों और नाच रही थी और इन्हें देखने के लिए बहुत सी स्त्रियों और पुरुषों की भीड़ लगी थी. इस समय चिता में आग अच्छी जल रही थी क्योंकि उस पर बहुत सा तेल और घी डाल दिया गया था. मैंने देखा कि आग उस स्त्री के कपड़ों तक जिसमे सुगन्धित तेल, चन्दन और कस्तूरी आदि मली हुई थी – भली भांति पहुँच गयी. मैंने अनुमान किया कि यह पांचों स्त्रियाँ यों ही नाच गा रही हैं पर मुझे यह देख कर आश्चर्य हुआ कि जब उनमे से एक स्त्री के कपड़ों तक आग पहुंची तो वह भी चिता में कूद पड़ी और इसी तरह बाकी सब भी. मैं इसका मतलब न समझ सका पर मुझे शीघ्र ही मालूम हो गया कि ये पांचों स्त्रियाँ दासियाँ थी.

इसी तरह के भयावह किस्सों का वृतांत लिखते हुए बर्नियर ने आगे लिखा कि मैं जल्द ही ऐसी असंख्य घटनाएँ देख कर उकता गया क्योंकि मैं बहुत भयभीत भी हो जाता था. उसने लिखा कि माताएं इन्हें बचपन में ही ये शिक्षा देती है कि पति के साथ सती हो जाना प्रशंसा और पुण्य का काम है पर वास्तव में यह मर्दों की धूर्तता है जो इस प्रकार स्त्रियों को अपने वश में कर लेते हैं और फिर इन्हें यह भय नहीं होता कि बीमारी में उसकी स्त्री अच्छी तरह से सेवा नहीं करेगी या उसे ज़हर नहीं देगी. बर्नियर को ये दो उपरी और छिछले कारण ही समझ आये किन्तु सच तो था कि स्त्री को पति के जीते जी भी उचित सम्मान नहीं मिलता था तो मरने के बाद उसे असंख्य कष्टों का का सामना करना पड़ता था. माताएं अपनी पुत्रियों के तिल तिल मरने से बेहतर जानती थी कि वे एक ही बार मर जाएं.

पाच छः सौ साल बाद भी मैं अपने आस पास सामाजिक बराबरी और सुसंस्कृत होने के संकेत नहीं देख पाता हूँ. समाज में अशिक्षित और निराश्रित स्त्रियों की संख्या बहुत बड़ी है. मेरी नानी को जीवन यापन के लिए चार सौ रुपये पेंशन से मिलते है. उनका भी कोई पक्का हिसाब नहीं है. वे कहती हैं बेटा मेरे पैसे कोई खा जाता है मुझे मिलते ही नहीं… तो मैं बोलता हूँ मुझसे ले लो, यानि मैं भी भ्रष्ट व्यवस्था के साथ हूँ. मेरे नाना, मामा और मामियां इस संसार में नहीं रहे अब उनके साथ दो पोते हैं जो दुनियादारी से अभी अनभिग्य हैं. पड़ौसी उनकी ज़मीन को हड़प लेना चाहते हैं. वह बूढ़ी औरत, अपने दोहित्रों के मजिस्ट्रेट और पुलिस अधिकारी होने का दम भर कर जिंदा है और पड़ौसी भी इससे परिचित हैं. मेरी नानी ने अभी थक हार कर अपनी बीस भेड़ें बेच दी हैं. पेंशन समय पर आती नहीं और बरसात का कोई ठिकाना नहीं…

स्त्री को सदा सुहागन होने का आशीर्वाद देते रहो.

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s